X Close
X
9826003456

तिल और गुड़ की सौंधी खुशबू आक्रर्षित कर रहा है ग्राहकों को


Gadwal:

झुमरीतिलैया :- मकर संक्राति को लेकर झुमरीतिलैया शहर में लगभग डेढ़ दर्जन से अधिक स्थलों पर तिलकुट बनाने का कार्य किया जा रहा है। प्रतिदिन लगभग 2 क्विटल के अधिक गुड़ एवं चीनी के तिलकुट बिक रहे हैं। वहीं गया व अन्य इलाकों के तिलकुट भी दुकानों में बिक रहे हैं। तिलकुट के ऑर्डर भी दिए जा रहे हैं। इसके अलावा घेवर की बिक्री भी शुरू हो गई है। बंदना स्वीट्स के मालिक कैलाश चौधरी ने बताया कि घी के घेवर 600 रूपये किलो तथा रिफाइन का घेवर 360 से 400 रूपये में बिक रहा है। वहीं दूध व दही के विक्रेता विमल शर्मा ने बताया कि दूध और दही का आर्डर लिया जा रहा है। इस वर्ष अमूल का 1 किलो का दही 60 रूपये पैकेट में उपलब्ध है। जबकि होटलों में जमा गया, दही 120 रुपये में बिक रहा है। वहीं चुड़ा और गुड़ के विक्रेता प्रदीप अग्रवाल नबाव ने बताया कि उसना चूड़ा 30 से 35 रूपये किलो अरवा 60 -75 रूपये किलो तिल का लडउू सादा काला 200 ग्राम का 25-25 रूपये पेैकेट में बिक रही है। ज्यो-ज्यो मकरसंक्राति नजदीक आ रही है। तिलकुट की बिक्री बढ़ती जा रही है। बाजार में गुड़ का तिलकुट 220-240 रुपये ओर चीनी का तिलकुट 200 से 220 रुपये प्रतिकिलो रुपये बिक रहा है। वहीं खोवा का तिलकुट 260 से 280 रुपये प्रतिकिलो की दर से बिक रहा है।
खरमास खत्म होते ही शुरू होंगे मांगलिक कार्य

पंडित जीवकांत झा ने बताया कि भगवान सूर्य के उत्तरायण होने के बाद खरमास का भी समापन होगा और मांगलिक कार्य आरंभ हो जाएगा। शास्त्रों के अनुसार उत्तरायण की अवधि को देवताओं का दिन और दक्षिणायन को देवताओं की रात के तौर पर माना जाता है। इस दिन तिल का दान करने का अत्यधिक महत्व है। 14 जनवरी को दोपहर दो बजकर पांच बजे सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के उत्तरायण होने से मनुष्य की कार्यक्षमता में वृद्धि होती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार असुरों पर भगवान विष्णु की विजय के तौर पर भी मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है। संक्रांति पर शुभ मुहूर्त सुबह 8:30 बजे से शाम 4:46 बजे तक है।

The post तिल और गुड़ की सौंधी खुशबू आक्रर्षित कर रहा है ग्राहकों को appeared first on Prompt Times.

Prompt Times